महिला लेखन

महिलाओं के लेखन का मतलब है उनकी अभिव्यक्ति को आजादी. अस्मिता और सजग आत्मविश्वास को स्वर मिलना, यह सामाजिक परिवर्तन तथा गतिशीलता का दिकसंकेतक भी है. लेखन महिलाओं के आत्मसंघर्ष का सबसे सार्थक और उपयुक्त उपकरण है. सृजनशीलता का सीधा सा अर्थ है जागृति. स्त्री जब लिख रही होती है तो जिम्मेदारी उठा रही होती है. वह महज बुद्धिविलास नहीं कर रही होती क्योंकि अमूमन वह दृष्टा ही नहीं भोक्ता भी होती है. इसीलिए स्त्री की अनुभूति, पीड़ा और संवेदनात्मक समझ दूसरों से ज्यादा तीव्र, सांद्र और सघन होती है|

Advertisements